Posts

Showing posts from June, 2018

What is Goodbye...afterall?

Image
What is goodbye afterall...if only it had to be just said, but not felt in the heart...when the memories drown you every now and then, making you vulnerable.

What is goodbye afterall...if you touch your scars and feel the pain again and again, like they are still fresh.

What is goodbye afterall...if your tears flow, eventhough times have crossed bridges of months and years.

What is goodbye afterall...when you try all the while to live, but die each day remembering them whom you love.

What is goodbye afterall...when you never think it would end so soon, that your mind keeps hanging in confusion.

What is goodbye afterall...when you remember them, each time you touch something you both shared.

What is goodbye afterall...when your playlist is full of their favourite songs, and you put them in loop, listening to each with tears in your eyes.

What is goodbye afterall...when the silence is full of their whisperings and, loneliness full of their memories.

What is goodbye afterall...when each…

घर वापसी (भाग ५ "उम्मीद का तोहफा")

Image
घर वापसी  (भाग ५  "उम्मीद का तोहफा")

भाग- १ यहाँ पढ़ें https://www.loverhyme.com/2018/05/blog-post_99.html 
भाग -२ यहां पढ़ें https://www.loverhyme.com/2018/05/blog-post_25.html
भाग ३ यहां पढ़ें https://www.loverhyme.com/2018/05/blog-post_72.html
भाग ४ यहाँ पढ़ें https://www.loverhyme.com/2018/05/blog-post_27.html








उस दिन तो कैलाश चला गया, पर उसका ये कहना कि वह मुझे इस दल-दल से निकालना चाहता है, कुछ देर के लिए अच्छा लगा सुनके। शायद मैं अपने परिवार के पास चली जाउंगी।पर ये सब इतना आसान नहीं जितना लगता है।



३ साल के इस सफर ने मुझे कितना पत्थर बना दिया , ये मुझे ही पता है। वो पहला दिन भी याद है मुझे, जब यहाँ लायी गयी थी.... धोखे से ! और फिर ज़ोर- ज़बरदस्ती से तिल-तिल कर के मारी गयी रोज़, तक तक...  जब तक कि इस पिंजरे के दरवाज़े खुले होने पे भी मैं यहाँ से भागने की कोशिश न कर सकूँ। 


अपना घर , परिवार छोड़ चुकी औरत पे तो हर कोई हक़ समझता है।सड़क पे होते हर उस शर्मनाक हादसे में औरत जीते- जी मरती है ... कुछ तो ये समाज उसकी ज़िन्दगी दुश्वार कर देता है और कुछ अपने ही लोग....



और यहाँ ....  चंद पैसो…