Saturday, 18 November 2017

Demons

                                                 image: spyderonlines.com
                                               
"Stay away from me... you don't know how much I would love to kill you...", his gaze became intense while calling out to me. The fire of his soul clearly was ready to burn up anything and anyone.



"Why do you think that you can harm me... when all I ever want is to be close.... to you!", I took my chance at luring him into my well crafted words.



" Because the demons inside me... they won't let you touch me... they won't let you come closer...", another of his false belief made a way out of his mouth.



"Listen to me please... set them free....", I looked straight into his eyes.



"What? Do you have any idea, what you are saying! You are trying to initiate a tsunami which will sink everything." His exasperated look became stern with anger.



"Do you know who your demons are? They are your fears, your insecurity and your hurt soul. Give them their space, give them what they yearn for." I put my hands on his.



                                                 image: abstract.desktopnexux.com

He seemed a little shocked but didn't let my hands garb his for another moment. "I have chained them, I wont let them free or they'll take over my mind."



"The demons demand freedom! That's why they are messing up with your mind.You need to let them breathe free... let them go. Set them free for that's when they'll honor you, more than ever. It's not necessary to chain them to control them. Confront them...face to face! Tell them what you want... listen to what they have to say...nothing more." He remained hypnotised to my words.



"Hmmn... Only this?" He asked me in bewilderment.




" Yes!Only this... you need to address them... they also are a part of the fuel that powers you. The only thing is to love them; they resemble to the spoilt child who wants attention. Who craves to be loved....who craves to be understood. That is what it needs to be...from you! Unchain them...release them....and take care of them." I finished speaking my mind.




                                                image:wallpapers13.com


And With this, his long held tears started dripping...
After sometime, he fell asleep...his face looked so peaceful in my lap...I caressed his hair; smiling to myself that one more soul had learned to tame is belief 'of unloving the demons inside him' today.  




                                                Image: 1zoom.me

Sometimes it is not the demons but us who needs to be loved...to know that there are no demons inside but our own light behind a darkness called ignorance.



Monday, 9 October 2017

The Slaughter House
















Upon the darkened mountain
Rested a little house
Each passer by called it
The slaughter house.

No one lived there
By the nights.
Only spirits untamed
Walking in and out.

By day the sun soaked
The blood pools 
Leaving nothing behind
To doubt.

Nobody knew
who killed whom.
Where does the corpse hide
Only the staunch smell of flesh...

 Flows away...everywhere.

image :arquapetrarca.info

Thursday, 13 July 2017

Drapes of Love



 Draping around my waist,
 Your hands straighten up,
                                                              The pleats of my saree

                                                         Around you move in my gaze,
                                                     Fingers play like on strings of a guitar,
                                                      Leaving me slowly in bewilderment...

                                                               Your favourite colour,
                                                                 You did never tell,
                                                  But you eye for that special one always.

                                                         Finally you touch my shoulder,
                                                            Leaving the end at its place.

                                                           It sways away in the breeze,
                                                                 Falling off in grace.

                                                           You eye for another chance,
                                                              To touch the ends again.

                                                     To place it again over my shoulder,
                                                               Holding it around me.

                                                                 Awestruck...I am
                                                                   In your gaze.

                                                                 Draped in Love
                                                       Touched by the meeting gaze.
                         
                          
                                                           Image :au.pinterest.com












Tuesday, 11 July 2017

Does SOUL have a Gender?






Does soul have a gender?
It is the body that takes over...
In each birth
An envelope of visual difference
Eyes see
Skin feels
But what is same?
The deep seas
Holding nothing...
To something...
To everything
Beyond sense of understanding.
If this envelope burns...
How will you see me?
Have you thought ever...
The beautiful or ugly?
It doesn’t matter then.
The usual 
And the extraordinary
Is all same
Beneath...
Below...
Deep...
To the abyss,
Where darkness and light
Melt in the profound.
To sink, to drench
To become free
Of what holds everything
In place, sabotaged...
Hostage...
Enslaved.
Does soul have a gender?
To love you as a woman?
Or to love you as a man?
But to love, is it necessary?
For me to be opposite of YOU?
To complete the half that’s not You,
Or to be like You
To repel the love attraction.

image:thoughtcatalogue.com

Wednesday, 28 June 2017

Second Chance...

Image result for google images for a couple in embrace

I never thought that time will fly like this and I would not be able to cherish the moments that I deserve. My little girl is now no more little but has grown into a lady....intelligent, smart and beautiful. But with time, Diana has become so quiet... and I wondered why. Sometimes, you think that your children would tell you all that happen to them...but they don't because they need space...to live their own life.

Falling in love is like a fashion nowadays....and with college going kids, it is sometimes a matter of status.The truth is that this duration destroys much of their scope for studies and a good career.
And falling out of love is equally disastrous...it destroys a healthy mentality and self confidence. and my dear little girl ... she didn't say but ... her eyes said all......her sorrow.

I couldn't get angry on her as I know it would worsen her condition ....she needs a shoulder to just cry out and feel light.And my biggest failure is that I didn't let her understand this hard rule of life that one must go on....

"Love is a feeling...to be felt but not to be possessed because possession makes it vulnerable.Feelings are free...they dwell in hearts and that is why they are beautiful. We might not understand that attractions do not merely mean anything but in course of time, we go through a pain which is another emotion... a feeling. But the truth is that we are so much occupied by the sadness that we cage this pain in our hearts. And we totally change the meaning of Love.
Leave the right to possess the person you love.... and you shall always be happy to be in love. You might never forget the person because with him/her you had a wonderful time...which cannot be snatched away . It's a moment of peace...a never ending moment of happiness, which brings radiance on your face. The glow of which is so pure....so true, that never can anyone make you happy like that."

And then she suddenly turned towards me to ask," Mom... do you love Dad in the same way?"

The minute of silence was like ages for me and my lips struggled to say anything.
 A voice behind me intruded before I could start," Sometimes... broken hearts need a lot of time to heal my dear! And when they do...they are stronger than ever to be broken down because we pick up each shattered piece...place them carefully and fix them with pure love.... and give them time and care to heal. Broken pieces may have cracks and stains but they hold stronger....scars are the proof of our struggle but not our failure. Second chances are very difficult but people get stronger . They know the pain endured in the first time. So, second time, the heart is all prepared.
SO.... buckle up!!!This is not the end.....He rejected you....move on...don't stay where you are...but as your mom says- Love is a feeling, not to possess a person but the feeling of being in love. And that is how it should be! "

Her dad said the best words ever to boost her spirit...as she wiped her cheek and hugged him....a jitty feeling hovered over me and I was caught in his gaze, his muffled voice touched my ears,"You can never forget your first love...the first kiss and the the first drops of rain of the season.."
My breath struggled to get free but my eyes glistened with the petrichor of the first love lost in the crowds of memories....my voice finally stripped of its loudness spoke in a husky tone," I regret why it wasn't you?"

" It was always you....my first and last...and I don't regret I wasn't your first because I waited for you... and somehow I was destined to be yours." His words and his warm embrace made me realise that second chance in love is a beautiful thing....the sweetness of love is never less...it is our hearts that do not open and accept it but... I have found peace in the love that I have got and I hope Diana too understands this and....accepts life and love as they are!

(C) Ravinder Kaur
   
     28-06-2017

image:occasiodea.blogspot.com

Tuesday, 27 June 2017

To my dead Friend


Related image

I am really disturbed with your absence dear...I think am feeling your pain...piercing deep into my heart...your words still echo in the silent corridor...crawling sluggishly...but still not reaching out of the door of my heart...I feel you are still alive but no....no more your smile caresses my smile...the lump in my throat is struggling to call your name...eyes following the crowd ....taking you over their shoulder...to burn you ...until no flesh remains on your bones... the ashes they would collect ... to immerse in waters faraway...
your pyres ...burn my heart....the flames rise to burn me...but the irony is that I cant show anyone my burns...my soul bears all the scars...I am whipped... strangled...suffocated...but still am living....like a shameless creature...like a haunted mansion...and you pierce my soul every night...with your giggles and those soaked eyes hiding your pain..when the last time you said...I am ok!
(C) Ravinder Kaur
21-05-2017

image: vikkix.deviantart.com

Torn Apart...

Image result for image for depleted nature

Apart .... a part...of me! Torn ...distorted ! Dismantled...destroyed....Me!
Apart.... a part ...of me! Subdued...refused!
Ignored...punished...Me!
Apart... a part...of me! Seldom!
Do I think...of me!
I give...never ask...only plead...to let me free!
I am your life...your home...your food...you're part of Me!
09-06-2017

image: careandgrowth.com

Kaafiya Milaao's prompt : It takes much time to kill a tree...

Image result for image for cutting tree
It takes much time to kill a tree,
To forget the shade once you sat in,
And pull out each leaf.
It takes much time to kill a tree,
To forget the fruits once relished...
And cut each branch
It takes much time to kill a tree
To collect all memories
Untying those ropes from the swing
It takes much time to kill a tree
To ward off the laughter
To forget the tears you once shared with.
It takes much time to kill a tree
To shake off those hiding moments
In the game of hide and seek
It takes much time to kill a tree
To forget that hearts you made
With initials of your crush within.
It takes much time to kill a tree
Upon whose branches rested a nest
Chirping birds in the season green
It takes much time to kill a tree
Under which you dug a pit
And hid those letters of love disease.
It takes much time to kill a tree
Who was your confidant
In whom you felt safe with secrets deep.
It takes much time to kill a tree
Who was your companion once
Who today looks at you with grief.
It takes much time to kill a tree
It should...
For in it you'll kill everything you had...
Moments....unforgettable...
16-06-2017

image: biology.stackexchange.com

Anonymously Yours...



Image result for image for starry sky

Some nights became anonymously yours without my permission....they belong to you....your thoughts....but my days live in fear .... of losing you!
Because in darkness... the echoes of fears fade away....and heart lights up with millions of glittering dreams....that promise me that we would never part...we would always dilute in each other like the ink in water....like the sound of me in you!
20-06-2017

image: vidur.net

Dreams of Love









Image may contain: 1 person, smiling, sitting and text
You quietly peep into me, reading all my desires, the half opened window still waits...for you to jump down and chuckle at the stolen kiss that once you took with you...the unpainted thoughts remain blank at your mention and my brush blushes in anticipation of the crime my mind would have committed but.....all this is a mere imagination of those wild horses upon whose carriage my thoughts travel...far away with you in the woods...where the wet silt holds my wedges deeply as the first rain drops touch our faces....and I slap myself for the sin you have committed... taking over by thoughts like a storm...and leaving my head full of fairytales where am yours and you....mine!
24-06-2017

Rainbow Dreams

My eyes melted in the arms of the night and hugged a dream...tightly enough that my eyes drifted in darkness for a while....and when the rays of light shone...I felt floating on a cloud....with the most unexpected person...you....
The rainbow was bright...so bright that I would hide behind you...and you would chuckle...embracing me, wrapping me in your arms....holding gaze so firm...that I would feel imprisoned...in their glow...the swans swam through the streaks of the rainbow...from one end....drowning into the other...and I would get scared when the blues turned black...and the rainbow rusted...forming a lifeless band...each swan dead at the fallen depths...and I scream....waking up....holding onto your arm....you were never gone...you can never go...please .... don't go!
27-06-2017
Image: sudhacolours.co.uk

Tuesday, 13 June 2017

A Queen....











All through the time...

I was a Queen...
Never had to lead as You...
Now time has casted a horrible spell...
I rise to hold the sword as You....
In your absence I am the King....
To rule to fight, to protect...
My kingdom and my Will...




(C) Ravinder Kaur
image source: quora.com

Tuesday, 14 February 2017

The Undelivered Letter

The undelivered letter...



My heart was torn, when I had no news of him....I waited on the steps near the pavilion. My heart kept on swinging beats from four to one....anxiety took over me....whether he would come or not , I had no idea.....
The dripping rains, I thought were the reason of his absence but now the sky was getting clear of the dark clouds.The sun was showing in slowly, yet mildly like waiting with me for him to appear here .
It has been three hours and he hasn't even called me. Am more than nervous....am more than destroyed. My sobs start without warning and I hear the sad sound of my heart .
May be...may be.... But it is now time and I can't fool my heart any more. He won't come. Am left alone....abandoned like an unwanted child.
I call him on his number , the ring is buzzing .....he takes my call and in bewilderment quizzes me about my whereabouts. I tell him am outside the metro railway station, waiting for him. And he gives in a surprised sound not knowing it. He tells me to wait there and he'll come.
I feel this wait is endless until I see him through my crying eyes nearly thirty minutes after that call.He comes and hugs me and calls me stupid and idiot. For I came for him from Bangalore to Delhi unannounced.
I told him about his letter, which he kept in the book. And he was shocked that it was the same letter he wanted to give to his first crush at college but couldn't. That undelivered letter chose me to open it and I received all the love, he wished to give to his crush.
I was surprised whether it was for me , yes I assumed it was for me, for it was addressed to Navya and my name IS Navya..

©Ravinder Kaur
14-02-2017
#Love
#iloveyou
#Valentine'sday

Tuesday, 31 January 2017

सांसें...




मोहब्बत कितनी अजीब होती  है न..... 
जब हम इसका इन्तज़ार करते हैं तो ये कोसो दूर भागती है..... और जब इससे रूठ के  चले जाओ, तो यही मोहब्बत .... इश्क़ आपको  डुबाने को ऐसा बेकरार होती है कि  क्या कहने.... 
सच में.... मैंने कभी नहीं सोचा था कि  मुझे भी इश्क़ होगा...  सोचा था  पहली मुलाक़ात  में ही सब कुछ बता दूंगी पर ...... पर उसको देखते ही मैं तो खुद को ही भूल गयी ..... वो एक घंटे की मुलाक़ात शायद मेरी ज़िन्दगी का सब से हसीन वक़्त था..... लेकिन  मेरी किस्मत इतनी अच्छी नहीं, कि उसका साथ मुझे उम्र भर के लिए मिले..... इसलिए आज मैं उसको मिल के सच बता दूंगी। ....." आयशा ! क्या कर रही हो यहाँ बैठे..... " वह आ चुका था।


" बस तुम्हारा  इंतज़ार था केतन ....कैसे हो?

"मैं तो ठीक हूँ मैडम, यहाँ क्यों बुलाया मिलने को।  पता है न, एक हफ्ते में हमारी शादी है। ....और माँ को पता चला तो बहुत डाँट  पड़ेगी....."

"जानती हूँ, पर सुनो...... देखो...... ", पसीने से मेरा माथा भीग चुका था। ..... और केतन अपने रुमाल से उसे पोंछ रहा था।

" जी मैडम, देख रहा हूँ, सुन भी रहा हूँ..... बात क्या है? शादी करने से डर तो नही लग रहा? वैसे तुम्हारा चेहरा देख के तो यही लग रहा है कि  तुम्हारी सिटटी  पिटटी  गुल  हो गयी। ...हा हा हा। ...." 

"देखो केतन, मेरी बात ध्यान से सुनो..... मैं तुमसे शादी नहीं कर सकती। ....... प्लीज ये शादी रोक दो..... " मैं एका - एक बोल पड़ी।

" आयशा मज़ाक मत करो..... !!!!!"

"ये मज़ाक नहीं है केतन..... मैं सीरियस हूँ.... प्लीज बात को समझो।"

" आखिर बात क्या है? कुछ बोलोगी भी!!!! कब से तुम यही बात कह रही हो, कि  शादी नही कर सकती....पर क्यों? बोलो?"

" क्योकि। .....क्योकि मुझे अस्थमा है.... केतन।"

केतन मुझे घूर घूर के देख रहा था.... मानो उसे भरोसा ही नहीं हो रहा था मेरी बातों पर....

" मैं नहीं चाहती कि  तुम्हारी ज़िन्दगी मेरे साथ बर्बाद हो.... मुझे एक्यूट अस्थमा है। ... और इसका  कोई इलाज नहीं... सिर्फ प्रिकॉशन्स और मेडिसिन्स के नाम पे इनहेलर, क्या तुम एक बीमार लड़की को अपना हमसफ़र बनाओगे? "मैं रोते रोते , अपना दुःख बयाँ  कर रही थी , टेबल को देखते देखते.... फिर नज़र उठाई तो देखा.... देखा कि  केतन जा रहा था।

बड़ी मुश्किल से अपने आंसुओं को पोंछ के मैं घर की तरफ चल पड़ी... रास्ते में यही सोचती रही कि....   जब घरवालों को पता चलेगा तो क्या होगा। ....वे मुझे माफ़ नहीं करेंगे, क्योकि  एक तो अच्छा रिश्ता हाथ से निकल गया और जगत हसाई भी हो गयी....

माँ कोसेगी कि  शादी को एक हफ्ता रह गया था, अगर चुप कर जाती तो क्या बिगड़ जाता.... पापा मुझसे बात नहीं करेंगे.... मामाजी भी नाराज़ हो जायेंगे..... समाज में बातें होंगी... लोग हसेंगे मेरी बेवकूफी पे..... लेकिन .. लेकिन मैं खुद को कैसे माफ़ करती !!!!


घर के बाहर  कार खड़ी  थी .... शायद कोई आया है..... सामने के दरवाज़े से अंदर नहीं जा सकती, नही तो जो कोई आएं हैं ,  बोलेंगे कि  अगले हफ्ते शादी है और ये लड़की बाहर है। .... सोचते हुए मैं पीछे के दरवाज़े से रसोई में होते हुए अपने बैडरूम में चली गयी ... लिविंग रूम से आवाज़ नहीं आ रही, सब शांत , कुछ समझ नहीं आ रहा , झाँकने पे पता चला कि केतन अपने मम्मी पापा के साथ आया है।

दिल ज़ोर ज़ोर से धड़क रहा है..... मैं वापस अपने कमरे की ओर आ जाती हूँ.... बेचैन सी सांसें तेज़ हो रही हैं , मैं ज़्यादा ही सोच रही हूँ शायद....खुद को शांत रखने  की कोशिश कर रही हूँ.... यही तो मैं चाहती थी... कि ये शादी न हो, तो अब क्यों मैं ही बेचैन हूँ? मेरा इनहेलर नहीं मिल रहा। ..... शायद ड्रावर में है...... लेकिन मैं ठीक हूँ। .. माँ आ गयी। ...
"मिल गयी शान्ति तुझे..... कि और हमारा तमाशा बनाएगी.... बोल.....बोल....क्या दुश्मनी निभायी बेटा  तूने... वाह। ....बहुत  खूब.... "

मुझे कोई जवाब नहीं सूझ रहा...... सांस फूल रही है बस.... बेबस सी खड़ी  बस..... माँ को देख रही हूँ..... माँ को जब तक समझ आया कि  मेरी सांसें रुक रही हैं, दौड़ के वो  इनहेलर ले आई, मेरा दुपट्टा दूर फ़ेंक दिया गले से उतार के.... इनहेलर मेरे होंठों से लगा के मुझे सहारा दिया और सोफे पे बिठा दिया...."

मैं अब ठीक थी.... पहले से..... मगर बात नहीं कर पा   रही थी..... फिर भी मेरा उन्हें बताना ज़रूरी था..... ," माँ, देखो... उनके परिवार को ये नहीं मालूम था कि  मुझे एक्यूट अस्थमा है... और इस तरह मुझे कभी अटैक आ जाये तो वो क्या करेंगे? बोलो....... वो.... वो बाद में दोष ही देते ना.... सारी ज़िन्दगी मुझको..... और आप सबको कि हमने उनको धोखा दिया..... एक बीमार लड़की उनके बेटे के पल्ले बाँध दी, मैं आपकी बेइज़ती नहीं सेहन कर सकुंगी माँ...... "

" आयशा। ... क्या वो तुम्हे पसंद  नहीं ? बोलो बेटा। .. अगले हफ्ते तुम्हारी शादी है.... अब। ...."
"माँ.... मैं केतन से बहुत  प्यार करती हूँ.... मौत का डर कभी नहीं था मुझको..... लेकिन जब से उसको चाहा..... मुझे डर  लगता है.... हम दोनों का साथ न जाने कब तक बना रहेगा..... पा के खोने में जितना दुःख होगा, इसका अंदाजा मुझे अभी से हो रहा है...इससे अच्छा मैं उससे दूर ही रहूँ.... उसे किसी और का बनता देखू.... "

अंदर से बुलाने की आवाज़आयी और माँ और मैं दोनों चल पड़े.... मैं सर झुकाये दोषियों की तरह अपनी सुनवाई का इंतज़ार कर रही हूँ , पापा मुझे अजीब से भाव से देख रहे हैं , केतन के पापा और मम्मी गुस्से से और केतन.... वह एक तरफ खड़ा मुझसे नज़रें नहीं मिला रहा ..... मैं अपने निश्चय पे पक्की थी और मुझे कोई अफ़सोस भी नहीं था.... खुद को थोड़ी और हिम्मत बांधती, मैं उनको नमस्ते करने लगी....

" बेटा। ... इधर आओ। .."केतन के पापा मुझे बुला रहे हैं,.....
मैं उनके पास बैठ जाती हूँ, वह मुझे देख रहे हैं, पर मैं अपनी नज़रें फर्श से नही उठा रही। ...
केतन ने बताया की तुम्हे अस्थमा है और उसे परेशानी है इस शादी में.... "

एक अनकही सी उम्मीद यु बिखर रही थी, जो न चाहते हुए भी  थी.... अच्छा है.... तोड़ दो ये रिश्ता..... अपनी ऊँगली में पहनी सगाई की उस डायमंड रिंग को आधे रस्ते निकाल ही चुकी थी कि  वह बोल पड़े......" तुम न बताती तो ये शादी हो ही जाती पर अब ....... अब ये शादी नहीं...... "

मेरी सांस रुक रही थी.... फिर से और धड़कन भी.... शायद मैं नहीं बचूंगी.......

"अब ये शादी नहीं रुकेगी..... तुम नहीं बताती तो क्या होता.... तुम्हारे माँ पापा  और मामा  ने पहले ही बता दिया था हमे.... और केतन को भी ये पहले से मालूम था..... "

अंगूठी खिसक चुकी थी वापस ऊँगली  में .... और नज़रें उठा के देखा तो चेहरों पे मुस्कान थी और केतन..... हमेशा की तरह... अनबीलीवबली  ड्रामेबाज़!




इमेज सोर्स : www.americannursetoday.com

Friday, 6 January 2017

The Fire has broken.....





The fire has broken into my heart...

The flames of passion now escape...


I have been hoping since long now...

But I haven't seen your true face...

My wounds have oozed blood...

Now that has dried in this heat wave...

Smokes of anger and hatred arise from my soul...

Burning all dreams I had for me and you...

Forgetting the sweet kisses and unslept nights...

Everything I have burnt, even myself...

Anger and hatred.... 

Has taken over my innocent heart...

Because of your untrue love...

That you played with my heart...

Thursday, 5 January 2017

ज़ख्म-ए-ज़िन्दगी






                                                                 ज़ख्म-ए-ज़िन्दगी



भोपाल से बैंगलोर .. एकतरफा सफ़र 

अब इस उम्र में क्या जाना घर के बाहर ... यही सोच के पिछले चार महीनों से टाल रही थी मैं... पर अब उसका फ़ोन पे दुखी आवाज़ में माँ कह के कॉल काट देना मुझसे बर्दाश्त नहीं होता। मन मार के ही सही मेरा सफर शुरू हो चुका है , अब ज़िन्दगी में इतना कुछ तो हो चुका... चलो ये भी सही। 


प्लेन में पहली बार बैठी हूँ और नज़ारा सच में बिलकुल ही अत्भुत ! शादी के 25 सालों में पहली बार हवाई यात्रा... मन ही मन मुस्कुरा रही हूँ,पति इतना धनवान पर कभी साथ, कहीँ भी नहीं ले गए। और बेटा... वो टिकेट भेजे बिना मान नहीं रहा... मुझे आख़िरकार अपने पास बुला ही लिया उसने।


एयरहोस्टेस कुछ बता रही है... पर मेरा ध्यान तो कहीं और जा रहा है... पंख प्लेन को लगे हुए हैं और उड़ मैं रही हूँ... मगर पीछे... और पीछे... 26 साल पहले... 
"मेरा रिश्ता मांगने  कब आओगे सतीश ? कॉलेज का आखिरी साल भी खत्म होने को है... और घर में रिश्ते को ले के पूछ परख होने लगी है...कब तक टालोगे? अब तो घर में बात करो!" मैं खीझ के बोली।


" मृदुला ... मैं समझता हूँ.... पर तुम जानती हो न .. नौकरी बिना तुम्हारे बाबूजी मुझसे तुम्हारी शादी नहीं करेंगे।  देखो मैं कोशिश कर रहा हूँ... जैसे ही मेरी नौकरी लगेगी... मैं खुद बाउजी के साथ तुम्हारे घर आऊंगा।  अब नाराज़ मत हो...हँस भी दो ना ... "

"एक्सक्यूज़ मी ! प्लीज बेल्ट लगा लीजिये .... प्लेन टेक ऑफ करने वाला है... " एयरहोस्टेस ने मुझे मेरी यादों से बाहर खींच लिया... हड़बड़ी में बेल्ट के सिरे ढूंढने  लगी थी, कि एक दबी सी हँसी मेरे साथ वाली सीट से सुनायी दी...एक नया नवेला  जोड़ा ... घूमने निकले होंगे... हाथों में हाथ डाले, ख़ुशी ज़ाहिर कर रहे थे... उनके इतने नज़दीकियों से एक पल के लिए दिल में ईर्ष्या सी उठने लगी...
प्लेन रनवे पे दौड़ रहा था और कब हवा संग हो लिया... मेरे ख्यालों को भी पता नहीं चला।उस जोड़े को देखते देखते दिल में टीस उठने लगी... मन फिर अतीत में उड़ चला...

"मेरी बात समझने की कोशिश कीजिये मामाजी .....मृदुला उस घर में राज करेगी राज .... इतना पैसा उनके पास... इतने बड़े आदमी। हम जैसे लोग तो दहेज़ जोड़ते जोड़ते ही सारी  ज़िन्दगी परेशान हो जाते.... उन्हें तो कुछ चाहिए ही नहीं। ...बस  एक सुशील लड़की जो उनका घर संभाल ले बस! आखिर हम भी तो अपना फ़र्ज़ पूरा कर गंगा नहा लें... " सुरेश भैया रिश्ता ले के आये थे...


" माना सुरेश तुम ठीक बोल रहे हो पर.... तुम सच जानते ही हो...मृदुला... उसका 6 महीने पहले ही इतना बड़ा एक्सीडेंट हुआ है... और... और...सारी ज़िन्दगी अगर उसे तानें सुन के ही गुज़ारनी  है तो, वो कुंवारी ही ठीक है। " बाबूजी रूआँसे से हो के बोल पड़े। 


"मैं जानता हूँ मामाजी ... और मैंने उन्हें ये बता भी दिया है... आपसे कुछ कहना था... कैसे कहूँ ... दरअसल गिरीश की पहले शादी हो चुकी है... मगर पिछले साल बेटे को जन्म देते वक़्त, उसकी पत्नी इस दुनिया को छोड़ के चली गयी. उन्हें फ़िक्र बस अपने उस बेटे की है ... जो अभी भी माँ के प्यार को तरस रहा है....
देखिये ! इससे अच्छा रिश्ता कहाँ मिलेगा... अपनी बेटी की इज़्ज़त बनी रहेगी ... माँ नहीं बन पाने का इलज़ाम भी धरा का धरा रह जायेगा...आप तो जानते ही हैं ना... समाज और लोग किसी के सग्गे नहीं होते.... लोग कितनी बातें करते हैं । ... कम से काम इस शादी के बहाने ही वह इससे बच जाएगी। बाकी आप की मर्ज़ी !"

सुरेश भैया सर झुक के बैठे रहे। बाबूजी ने हामी भर दी और मेरा रिश्ता पक्का हो गया।  इस बीच मैंने कितनी बार सतीश को संदेसा  भेजा  पर शायद उसे मिला ही नहीं ...नहीं तो वो ज़रूर आता।  या फिर शायद उसे मेरे एक्सीडेंट का पता चल गया... मैं उसके लिए शायद अब बेकार थी.... कौन  लड़का ऐसी लड़की से शादी करेगा जो उसे पिता न बना सके... यही सोच कर मैं भी चुप हो गयी... किस्मत मान के इस रिश्ते को अपना लिया.... भाग्य ! किस्मत ! नसीब ! जो भी बोलो !

"मैम ! क्या लेंगी आप?" एयरहोस्टेस ने फिर मुझे हकीकत में खींच लिया... 

"कुछ नहीं... बस एक गिलास पानी ...प्लीज !" कह के मैं फिर उस नए जोड़े को निहारने लगी।
 सच है....ज़िन्दगी में हम आते तो खाली हाथ हैं... पर इन हाथों में अपनों के हाथ...यही तो चाहत होती है। दिल  में फिर दर्द उठने लगा.... सतीश से बिछड़के सोचा था मेरा पति.... मेरा परमेश्वर , मेरा जीवनसाथी ...शायद किस्मत में थोड़ा प्यार तो होगा? पर नहीं ! उन्हें मेरी परवाह कहाँ थी...वो अपनी मरी हुई बीवी को इतना चाहते थे कि वो उनके लिए अब भी ज़िंदा थी और मैं... ज़िंदा होते हुए भी उनकी कुछ नहीं! 

मेरा काम तो बस उनके बेटे को संभालने भर का था...शायद सिन्दूर तो मांग में उनके नाम का भर लिया था मैंने ....पर सारी उम्र प्यार और अपनेपन के लिए तरसने को ज़िंदा रहना ही  किस्मत में लिखा था ... वो अपने कारोबार को बढ़ाने में इतने व्यस्त थे कि कभी मेरी सुध ली ही नहीं... और मैं पत्नी नहीं, सिर्फ माँ बनके ही रह गयी... सच माँ बनना प्रकृति की देन है... पर मैं तो बिना उस पीड़ा को झेले ऐसी माँ बन गयी, जिसकी पीड़ा सारी उम्र मुझे अकेले ही झेलनी होगी...एक अकेलापन... एक खालीपन... जिसे मैं जितना भी चाहूँ भर नहीं पाऊँगी....

सिरहन होती है जब.... तो चाहती हूँ की मैं भी किसी के नरम हाथों को खुद पे महसूस करूँ... पर शायद ... शायद मेरे नसीब में... बस ये दुःख है...जिसे मैं चाह के भी किसी के आगे बयाँ नहीं कर सकती... आंसू बहाऊँ तो तन्हाई में... खुद के ही गले लग के...

एक-दो साल के बच्चे की मीठी आवाज़ ने मेरी यादों की यात्रा को थोड़ी देर के लिए रोक लिया.... पास में एक परिवार बैठा था.... जिनका बेटा  बार बार शरारत करता.... माँ को पीछे यहाँ-वहाँ  दौड़ा रहा था वो  ...मेरे होंठों पे एका-एक हंसी आ गयी...रोहन भी यही करता था... सारा दिन बाहर आँगन में... शरारतें करता... पढ़ने बिठाओ तो भाग जाता... दिन भर मटरगश्ती... लेकिन जब सयाना हुआ तो इतना कि उम्र को भी मात दे दी उसने... पिता बेशक़ उसे दुलार करते ... पर वो बेफिक्री से अपनी बात सिर्फ मुझे ही बताता... स्कूल की शैतानियाँ , पंगे ...और कौन सी लड़की के घर आज कल तफ़री... सब!  माँ से ज़्यादा दोस्त बना रखा था उसने मुझे.... आखिर उसके हर पल की गवाह जो थी मैं... उसके बचपन ..उसके यौवन... उसकी सगाई और उसकी शादी। 
 मुझसे दूर नहीं जाना चाहता था वो, पर देखो 3 साल से बैंगलोर में अकेले रहा... पढ़ा... नौकरी करी.... और छोकरी भी खुद ही ढून्ढ ली.... मुझे दौड़ाया नहीं... हाहाहा
वक़्त कितना बदल चुका ना... बच्चे समझदार तो माँ बाप को आराम।

प्लेन लैंड होने का टाइम हो गया... एयरहोस्टेस बता रही है... वैसे कौन सा मुझे सामान समेटना है... सो मैं ऊँगली में अंगूठी घुमाने लगी जो रोहन ने हमारी 25वी सालगिरह पे मुझे तोहफे में दी थी... इस शादी से कोई खुश था या नहीं, बस वो ज़रूर खुश था ...और उसकी यही ख़ुशी मेरे लिए अनमोल थी...

औरत की ज़िन्दगी भी बड़ी विचित्र होती है... उससे दूसरों की ख़ुशी जुडी होती है... सतीश के बाद अगर किसी ने मुझे वजह दी मुस्कुराने की, तो वो मेरा बेटा रोहन ही था...

प्लेन रुक चुका था...  और सारे पैसेंजर्स एक एक कर के उतरने लगे ....बैंगलोर की धूप भी कमाल की.... खुशनुमा मौसम.... जैसे मेरा स्वागत कर रहा हो.... एयरपोर्ट पे रोहन और काजल, उसकी पत्नी ...  मेरा इंतज़ार कर रहे थे... मुझसे मिलते ही काजल मेरे पैरों को छूने लगी.... आज के वक़्त में भला कौन मॉडर्न लड़की पैर छूती... यही सोच के हैरान सी हो गयी मैं... और रोहन... वो तो इतना खुश था कि मैं क्या  कहूँ ....काजल को दिल से लगा, जैसे मुझे कुछ देर के लिए बेहोशी से होश आया हो... आखिर मैं सास जो बन चुकी थी... एयरपोर्ट से लेकर घर तक... रोहन के बातों का पिटारा खाली ही नहीं हुआ... "माँ.. बहुत मिस किया तुम्हे... सुबह से बैठा हूँ कि प्लेन कब आएगा.... कब तुम्हे देखूंगा ?' उसकी बातों पे काजल हंसे जा रही थी...,"मम्मीजी ! ये न रात भरे सोये नहीं कि आज आप आ रहे हो ... अब तो आपको हम वापस जाने नहीं देंगे..."

प्यार जब किश्तों में मिलता है तो पता नहीं चलता कि  प्यार मिला भी कि नहीं... और जब अचानक से एक मुश्त मिल जाता है तो, ख़ुशी पे भरोसा ही मुश्किल हो जाता है.... प्यार घर को सुखी बना देता है....

आज तो थक गयी मैं... बस आराम करना चाहती हूँ पर रोहन...  मुझे छोड़ के राज़ी ही नहीं... अब भी वैसा ही जी बच्चा.... बचपन में अगर 2 -3  दिन के लिए भी मैं बाबूजी के यहाँ चली जाती तो तूफ़ान मचा देता। ... पता नहीं ये 3 साल मेरे बिना कैसे गुज़ार लीये इसने ?
"माँ तुम आराम करो... वैसे प्लेन तो तुम ही उड़ा के लायी हो लगता है.... थकी हुई सी लगती हो। ..."
कहता हुआ वो मुझे कमरे में छोड़ गया....

नयी जगह नींद भी तो नहीं आती...और ये बैंगलोर ... दिन रात लोग काम करते... आने जाने का कोई वक़्त नहीं यहाँ.... जब जागो तभी सवेरा...पर मुझे 5 बजे के बाद नींद आती ही नहीं....
नाश्ता बनाने रसोई में घुसी ही थी कि रोहन और काजल दोनों नाराज़ हो गए... काजल बेशक़ जॉब करती थी.... पर रोहन की तरह वो भी मेरी परवाह करती थी... कोई काम नहीं करने दिया उसने मुझे...

"माँ... शाम को ऑफिस में पार्टी है... आपको चलना है... तैयार रहना... काजल घर पे ही है आज.... आपके पास... मैं  शाम को आऊंगा... ", रोहन ने फरमान जारी करदिया... टालने का कोई रास्ता ही नहीं बचा... 


पूरा दिन काजल से बातों में बीत... रोहन की पसंद बहुत ही उम्दा थी... वो जितनी मॉडर्न थी , उतनी ही सुलझी हुई लड़की... बड़ों की इज़्ज़त और परवाह करने वाली... बहु से ज़्यादा सहेली सी बन गयी थी वो मेरी... शाम को खुद तैयार होने से पहले... मुझे तैयार कर गयी... साड़ी से लेकर ज्वेलरी और पर्स तक... सब कुछ।  वैसे लड़कियाँ सवरने  में बड़ा टाइम लगाती हैं, पर वो फ़टाफ़ट तैयार... रोहन आया... उसके लिए काजल ने कॉफ़ी बनायीं और हम दोनों के लिए चाय। 6 बजे  ही हम तीनों निकल चुके रोहन की कार में...


उसका ऑफिस बहुत बड़ी बिल्डिंग में था। हम छोटे शहरवालों के लिए तो बहुत बड़ी थी वो। रोहन बताता जा रहा था.. ऑफिस के बारे में... फर्स्ट फ्लोर पे ये ...सेकंड पे वो... वो खुद 7वी फ्लोर पे।  सबसे मिलवाया उसने, अपने कॉलीग्स से औए अंत में अपने बॉस से....

 सोचा नहीं था कि  किस्मत मुझे फिर उसी शक़्स से मिलवा देगी, जिससे बिछड़े न जाने कितना वक़्त बीत चुका ... मेरा गुज़रा कल... आज फिर सामने खड़ा था... रोहन का बॉस बन के.... सतीश!

देखते ही सांसें रुक सी गयी थी मेरी.... हलके से सर हिला के नमस्ते ही कर पायी मैं उसे।  रोहन और काजल अपने साथियों से मिलने में व्यस्त से हो गए... मैं सतीश के सामने खुद को अपराधी सा महसूस कर रही थी... उसकी नज़रें मुझ पर से न हटते देख, मैं खिड़की की तरफ चल पड़ी... रुकी हुई सांसें अक्सर धड़कनों को बढ़ा देती हैं.... कुछ पल के लिए मुझे समझ ही नहीं आ रहा था की ये सब क्या हो रहा है?

"कैसी हो मृदुला.....मुझे उम्मीद नहीं थी, कि तुमसे फिर ज़िन्दगी में मुलाक़ात होगी?" सतीश ने एक सांस में कहा।
" ह्म्म्म... ठीक हूँ. तुम... तुम कैसे हो?" मैं उससे बात नहीं करना चाहती थी... पर कोई रास्ता नहीं था।

"वैसा ही हूँ.... जैसा तुम छोड़ गयी थी... तुमने तो शायद मेरा इंतज़ार भी नहीं किया... पर मैं आज तक करता रहा..." कह के वो टेबल पे पड़े गिलास में पानी डालने लगा।

"तुम्हारा परिवार कहा है? मिलवाओगे नहीं? " मैंने अपने ऊपर से उसका ध्यान हटाने के लिए पूछ लिया।

"परिवार? कौन ? ओहहह... मेरी बीवी- बच्चों के बारे में पूछ रही हो? नहीं है.... मैंने शादी ही नहीं  की... किसी से प्यार किया था... शिद्दत से... सोचा था.... उसी से शादी करूँगा...पर शायद उसने इंतज़ार करना ठीक नही समझा ... तो अकेला हूँ.... नौकरी लगी....  यहीं हूँ पूरे 25 सालों से..."

उसके तीर जैसे शब्दों ने मेरा दिल भेद डाला.... मगर मैं उसे अपने ज़ख्म कैसे दिखाऊं? कैसे बताऊँ उसे कि मेरे साथ क्या- क्या हुआ... वैसे भी अब कोई फ़ायदा नहीं...

कुछ लोगों के लिए इंतज़ार सारी उम्र की वो सज़ा बन जाता है... जिसके हर कदम पे दर्द बेशक़ अपना होता है... पर आंसू दूसरों के लिए होते हैं।  मेरा इंतज़ार कभी ख़त्म नहीं होगा... मुझे पता है! मगर, उसका इंतज़ार..... उसका क्या? मैं एक ऐसी कश्ती पे थी, जिसका मांझी अपनी ही धुन में चल रहा था .... मगर सतीश की कश्ती.... साहिल पे हो के भी... डूब रही थी ... और मैं कुछ नहीं कर सकती थी...





इमेज सोर्स: www. pinterest.com